गुरुवार, 16 जुलाई 2020

हर कोइ दिखता है खामोश (मुक्तक)

© अशर्फी लाल मिश्र, अकबरपुर, कानपुर
           (1)
वही है  चेहरा  वही परिवेश,
वही   कुटुम्ब   वही  पड़ोस।
हर  गतिविधि सीमित आज,
हर कोइ दिखता है खामोश।।
            (2)
जिसने कभी न पीड़ा जानी,
का  जानै  पर  पीर   पराई।
जाके घर  बेटी  नहिं जनमी,
का   जानै    बिदा   बिदाई।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...