सोमवार, 23 सितंबर 2019

मेरी कहानी

© अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर, कानपुर *
चेहरे  पर  न  चमक,
न  वाणी  में   कड़क। 
कदमों   की    धमक,
अब       क्षीण     हुई ।।

होंठ    में     कम्पन,
वाणी   भी   शिथिल
नयनों   पर    ऐनक,
दृष्टि    क्षीण     हुई।।

मेरुदंड    भी     मुड़ी,
कमर     भी     झुकी
बस     एक      लाठी,
हमारा   सहारा   हुई।।

चहरे   की     झुर्रियाँ,
मन   की   लिखावट
श्वेत    केश     कहते,
मेरी              कहानी।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...