सोमवार, 23 सितंबर 2019

ऊषा सुन्दरी

                    
                                                                      
© अशर्फी लाल मिश्र,अकबरपुर, कानपुर।
                                                                      
रजनी     साथ     रहे     उडगन। 
न  अब  रजनी  न अब उडगन।।

बीती विभावरी  छाई मुस्कान।
खगकुल   की  है  मीठी   तान।।

प्राची    दिशि    खड़ी    सुन्दरी।
लाल     बिन्दी    सोहै     भाल।।

एक    टक   वह    खड़ी     हुई
लालीमय     जिसके      गाल।

लाल    चूनर   शोभित    तन
हाथ  जिसके  सजा  है   थाल।

स्वागत करने अपने प्रिय का
ऊषा  सुन्दरी  उत्सुक   आज।

--अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...