सोमवार, 23 सितंबर 2019

लिव इन रिलेशन

© अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर *
                                                    

समाज में  सम्मान  नहीं ,
लिव   इन   रिलेशन  का।

भविष्य   गर्त   में  रहता ,
उत्पन्न      बच्चों    का।

हर क्षण लटकती है तलवार ,
लिव   इन    रिलेशन    पर।

सामाजिक  बंधन    रहित ,
लिव   इन     रिलेशन    है।

टूटते      नित्य     परिवार ,
मचता   हा - हा    कार  है।

बच्चे    जाते    हैँ      कोर्ट ,
पिता  का  नाम  पाने को।

बस   अब       त्याग     दो ,
लिव   इन   रिलेशन   को।

--अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर ,कानपुर 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...