सोमवार, 23 सितंबर 2019

महाप्रयाण

© अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर *
                                                                                                          
भूमि   पर   शयन ,
घेरे  थे    परिजन।
अश्रु    पूरित    थे,
सबके        नयन।।                                                                                                                                                                                                                                         
दृष्टि      अपलक ,
रहित  सुख  दुःख।
चिर निद्रा में लीन ,
दिन रात विलीन।।

मिथ्या          हुआ        संसार ,
मृत्यु    जीवन       का     सार।
देख   तुम्हारा   भूमि     शयन ,
सब अर्पित करते श्रद्धा सुमन।।

माता   हा   हा   कार   करे ,
पत्नी   सिर   पीट     रही।
बेटा    बेटी   अश्रु    नयन ,
सब अभिलाषा  छूट  रही।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...