शनिवार, 2 मई 2020

नीति के दोहे (मुक्तक)

अशर्फी लाल मिश्र 











भ्रष्टाचार 

नौकरशाही      मीडिया ,यदि  गठबंधन   होय। 
समझो भ्रष्टाचार अति , यह जानत सब कोय।।

कोरोना 
 
कोरोना  ने  कर  दिया,हर किसी को अछूत।
 विश्व में आज बढ़ गया, हर जगह छुआ-छूत।।

© अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...