शुक्रवार, 27 मार्च 2020

कोरोना वायरस (मुक्तक)

© अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर कानपुर।

अशर्फी लाल मिश्र












कोरोना  का नाम सुनि , बाल वृद्ध भयभीत। 
भय से घर में जा छिपे , गायें प्रभु के  गीत।।

कोरोना की आज तक ,नहि   कोई   वैक्सीन। 
सब लोग  बेचैन दिखें , ज्यों पानी बिनु मीन।। 

***

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...