शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2020

नीति के दोहे (मुक्तक)









[© अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर,कानपुर ]

राज्य  हित में कांटे भी, बन जाते  है फूल। 
अरावलीय    पहाड़ियाँ ,राणा के अनुकूल।।

केहरि छोड़े न सुभाव , कितना   बूढा     होय। 
हिंसा उसके  मूल  में ,कभी न सात्विक होय।।






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...