सोमवार, 10 फ़रवरी 2020

नीति के दोहे (मुक्तक)

 
 
पवन बिगड़ी बसंत की , करिये प्रातः सैर।
शरीर होय वायु मुक्त , 'लाल' मनाये खैर।।

चुनाव  आते    फूटता , जातिवाद नासूर।
ध्रुवीकरण हो मतों का ,प्रयास हो भरपूर।।

© कवि : अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...