शुक्रवार, 13 दिसंबर 2019

शीत लहर(मुक्तक)

Asharfi Lal Mishra










शीत     लहर ,   अपनी      डगर ,
मस्ती में झूमती चली आ  रही है। 

 महा   निर्दयी ,  भृकुटी    चढ़ाये,
बाहें   फैलाये   चली   आ  रही  है।

बूढ़ों   को   देख ,  आँखे    तरेरती,
मानो   खाने  को  चली आ रही है।

शीत   लहर    के    परम्     मित्र,
हे   पवन   देव   विनती   सुनिये।

छोड़    दो   साथ   शीत  लहर  का,
घर  में   छिपकर    मीत   बनिये।

सूरज    देव     भी    साथ    नहीं,
बूढ़े  अब  अग्नि  के  शरण  गये।

© कवि: अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...