रविवार, 1 दिसंबर 2019

अब रूप खुले बाजार बिकै

Asharfi Lal Mishra











पहले   रूप    परदे    में    था,
अब  रूप  खुले बाजार बिकै।

जहाँ पहले रूप  अमूल्य रहा,
अब रूप का मोल भाव दिखै।

 पहले  एक  मुस्कान  से  ही,
लोग   आपहिं  आप    बिकैं।

अब  बिक्री  हेतु डेटिंग होती,
डेटिंग  पर   भी  नाहि  बिकै।

© कवि : अशर्फी लाल मिश्र , अकबरपुर ,कानपुर। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...