शुक्रवार, 29 नवंबर 2019

माँ की अमूल्य निधि

Asharfi Lal Mishra











देखने     में      थी      सरल ,
लगती   थी   भोली    भाली।  

कमर   उसकी    झुकी    हुई,
उम्र    उसकी     ढली     हुई। 

गाल    थे   उसके      पिचके ,
आँखे    उसकी    धंसी   हुई। 

उसका    भी    था   एक  बेटा,
बहुत दिनों से घर नहीं लौटा। 

अब   घर    में    लगती   जेल ,
समझा उसने नियत का खेल। 

 हाथ    में    एक    लाठी   ली ,
कंधे    पर      झोली     डाली।

निकल पड़ी   अनंत  पथ   पर,
पहुंची  थी  वह  गंगा  तट पर। 

हाँथ जोड़  कर   खड़ी  हुई  थी,
माँ   मुझको  गोद  में  ले  लो। 

पीछे  से   आया  उसका  बेटा,
माँ  के  चरणों  में   था   लेटा।
माँ  उसके   गले   लिपट  गई,
मानो  खोई  निधि  मिल गई।  

© कवि : अशर्फी लाल मिश्र  , अकबरपुर ,कानपुर। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...