मंगलवार, 24 सितंबर 2019

कुहासा

© अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर , कानपूर *                                                                       
मैं          कुहासा,
मेरा       शासन।
न   चलेगी    रेल,
न चलेगा यान।।

काया  मेरी  प्रचंड,
भयभीत मार्तण्ड।
भयाकुल खगकुल,
छिपा           नीड।।

सिंह भी जा छिपे,
अपनी        माँद। 
नर   नारी   सभी,
अपने      भवन।।

रोड   पर   कर्फ्यू,
धीमें       वाहन।
कुहासा        का,
यही   फरमान।।

न  चले गी  रेल,
न चलेगा यान।।

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...