मंगलवार, 24 सितंबर 2019

वंशी की धुनि अति दुखदाई

© अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर ,कानपुर *

Asharfi Lal Mishra
वंशी   की   धुनि   अति   दुखदाई।
माई   कोई   जाये  बरजै  कन्हाई।।

हम तो विलोय रही मटकी में दही।
उधर  कान्हा   ने   मुरली   बजाई।।

माई   वंशी    की   धुनि    सुनि।
तेजी      से    मथनी      चलाई।।

माई   फूट   गई   मटकी    बरजौ   कन्हाई।
कोई न जाये हम ही जाती बरजन कन्हाई।।

घर घर से दौड़ पड़ी गोपियाँ दुखियारी।
पहुँच   गई  गोपियाँ जहाँ बाँके बिहारी।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...