मंगलवार, 7 जनवरी 2020

नीति के दोहे मुक्तक


Asharfi Lal Mishra 



मशीन

कलयुग में कल की धूम ,कल से होते काम। 
कल से जाए संदेशा  , कल से निकलें दाम।।
 
काला धन 

काले धन से खुल रहे , राजनीति के द्वार। 
जनता को गुमराह कर , चाह सदन दरबार।। 

© कवि : अशर्फी लाल मिश्र ,अकबरपुर ,कानपुर। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

माई हम नाहीं जैहैं पनियाँ भरन-(भजन)

 द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र   माई  हम  तो गई  थी पनियाँ भरन।  मारग  में  मिल  गये  मुरली  धरन।   एक पैर से खड़े, बांकी थी चितवन।  कटि थी  तिरी...